50 Shikshaprad Jaatak Kathayein
50 शिक्षाप्रद जातक कथाएं


50 Shikshaprad Jaatak Kathayein50 शिक्षाप्रद जातक कथाएं
Best Sellers

Author: Mr. Surendra Singh Negi सुरेंद्र सिंह नेगी
Format: Paperback
Language: Hindi
ISBN: 9788122315288
Code: 8724k
Pages: 152
Price: Rs. 100.00

Published: 2014
Publisher: Pustak Mahal
Usually ships within 15 days


Add to Cart

Recommend to Friend

Preview as PDF





50 शिक्षाप्रद जातक कथाएं
(भगवान बुद्ध के पूर्व जन्मों की शिक्षाप्रद कथाओं का अनूठा)

जीव जन्मता है, मरता है, फिर जन्मता है, फिर मरता है। हिन्दुओं का मानना है कि आवागमन का यह चक्र निरंतर चलता रहता है। भगवान् बुद्ध भी इस चक्र से बचे नहीं। अनेक बार बोधित्सव के रूप में जन्म लेने के बाद ही उन्हें वह जीवन मिला जिसमें ज्ञान प्राप्त कर वे 'बुद्ध' कहलाए।

बुद्ध को जब बोध हुआ तो उनके पूर्वजन्म उनकी आँखों के सामने चलचित्र के सामने घूम गए। सिद्धार्थ के मन में करुणा का जागना, रोगी, वृद्ध और मृतक को देखकर जीवन से सम्बंधित प्रश्नों का उठ खड़े होना जैसी घटनाओं की ओर संकेत करती हैं ये कथाएं। इसी के साथ ये कथाएं यह भी बताती हैं कि कुछ भी भला या बुरा आप करते हैं, वह समाप्त नहीं होता। वह जन्म-जन्मांतर तक आपका पीछा करता है अर्थात किए हुए कर्मफल को भोगना ही पड़ता है।

बोधित्सव ने मनुष्य, पशु-पक्षियों एवं अनेक योनियों में जन्म लिया था। हर योनि और हर जन्म में उन्होंने संसार को दयापूर्ण न्याय और विवेक का उपदेश दिया। इन कथाओं द्वारा उन्होंने यह सिद्ध किया है कि उन्होंने मानव, वानर, हाथी, गीदड़, शेर, हिरण इत्यादि न जाने कितने जानवरों के रूप में इस संसार में जन्म लिया है। बुद्ध ज्ञान से प्रेरित यह कथाएं जो मानव एवं पशु-पक्षियों की ज़िन्दगी के साथ जुड़ी हुई हैं हमें ज्ञान का सागर देती हैं,जो संसार के सामने एक आदर्श है। जीव-मृत्यु और पुनर्जन्म की नींव पर आधारित ये कथाएं जहां रोचक हैं, शिक्षाप्रद हैं, वहीं इनमें ज्ञान का पूरा भण्डार भरा हुआ है। हमें पूरा विश्वास है कि जातक कथाओं का यह संकलन आपके जीवन का मार्गदर्शक बनेगा।

^ Top

Post   Reviews

Please Sign In to post reviews and comments about this product.

About Pustak Mahal

Hide ⇓

Pustak Mahal publishes an extensive range of books that are both affordable and high-quality.

^ Top