Pati Ki Praysi Bane
पति की प्रेयसी बनें


Pati Ki Praysi Baneपति की प्रेयसी बनें

Author: Chitra Garg चित्रा गर्ग
Format: Paperback
Language: Hindi
ISBN: 9788122308266
Code: 8993B
Pages: 142
Price: US$ 4.00

Published: 2003
Publisher: Pustak Mahal
Usually ships within 15 days


Add to Cart

Recommend to Friend

Preview as PDF





पति-पत्नी के बीच एक ऐसा सच्चा, भावनामय और प्रगाढ़ संबंध होता है, जिसकी धुरी परस्पर विश्वास, सहयोग और साहचर्य पर टिकी रहती है। इसमें जितनी घनिष्ठता और मज़बूती होगी, उनके जीवन में उतनी ही संवेदना, मधुरता, सहनशीलता तथा अन्य महत्वपूर्ण गुण स्वतः चले आएंगे। आज की जीवन शैली में स्त्री की भूमिका अधिक उपयोगी और सार्थक मानी जाने लगी है। पुरुष प्रधान भारतीय परिवेश में आज उसका दर्जा अधिक ऊँचा और स्वीकार्य हो गया है। ऐसा कोई भी पति नहीं होगा, जो पत्नी की पूर्ण समपर्ण की भावना तथा उसके आंतरिक व बाह्य सौंदर्य, उसकी निष्ठा एवं सर्वगुण संपन्नता के रहते रत्ती-भर भी उपेक्षा कर सके। ऐसी पत्नी को तो वह हर हाल में अपने दिल की रानी व अपनी प्रेयसी बनाएगा ही। वतर्मान समय में प्रत्येक पत्नी प्रेयसी किस तरह से बन सकती है, इसके लिए ठोस तथा कारगर उपायों को सुझाने वाली यह पुस्तक जहां एक ओर नए जोड़ों के लिए जरूरी दस्तावेज़ है, वहीं 5-10 वर्ष बाद अथवा जीवन-भर प्रेम भरी ताज़गी बनाए रखने के रास्ते दिखाने वाली मार्गदर्शिका भी है। अतः हर पति को चाहिए कि वह अपनी पत्नी को यह पुस्तक अवश्य भेंट करे और पत्नी को चाहिए कि इसके 32 अध्यायों में बताए गए सैकड़ों उपायों पर अमल करके अपने पति का दिल जीत ले और सारे परिवार पर राज करे।

^ Top

Post   Reviews

Please Sign In to post reviews and comments about this product.

About Pustak Mahal

Hide ⇓

Pustak Mahal publishes an extensive range of books that are both affordable and high-quality.

^ Top